Monday, May 25, 2020

कुछ अधूरा था अधूरा ही रह गया...

कुछ अधूरा था अधूरा ही रह गया
पूरा होता भी कैसे ?

आज अचानक उनका खत मिला
लिखा था अब खत न लिखना
बहुत सह चुका हूँ तुम्हें
आदतें अब तुम्हारी सही नही जाती
उसका कहना हुआ और हम बेज़ुबान हो गए
बस याद आ गयी तो वो पहली की बात
जिसमें कह दिया था मैने 
संभालना मुझे आसान नही 
टूट कर बिखरी हस्ती हूँ मैं
पुनः समिटना मेरा ठीक नही 
ये बात समझना जरूरी थी
तभी कहती हूँ मैं , 
रास्तों का एक होना ठीक नही 
छा गयी थी खामोशी ,उस वक़्त कुछ पल के लिए
टूटी भी जब तब जबाब उसका मिला
 संभाल लूंगा तुम्हें, समेट दूँगा इस बिखरन को
बस मेरे इजहार को हाँ करदो।
और आज भी यही सवाल ।
प्रियंका श्री
25।6।20

2 comments:

  1. बहुत खूब ... ऐसे सवालों के जवाब कहाँ होते हैं ...

    ReplyDelete

नई शिक्षा नीति

1986 के बाद देश की शिक्षा व्यवस्था में या उसकी नीतियों में कोई बदलाव नहीं आया । परन्तु अब नई शिक्षा नीति 2020 का आना एक नई सम्भावनायों को तो...