Monday, May 11, 2020

मजदूर

आधार है तू मेरा
फिर भी तेरी कीमत नही
देश कोई भी हो
 इज्जत तेरी नही
बिन तेरे बड़े से बड़ा काम
भी न हो पाए
पर ये बात नीति निर्धारकों
को कौन समझाए
जिन्हें तो सिर्फ 
विकास की होड़ में
बड़े बड़े कारखाने खोलने है
पर सोचा है थोड़ा भी
गर न हो तुम तो ये सिर्फ
मशीनों के ढेर है
फिर भी तेरी गिनती
इंसानों में नही होती
हर मूल सुविधा से वंचित तू
सिर्फ रास्ते तलाशता रहता है
तेरी फिक्र भी किसे होगी
न बल है 
न पास जो पैसा रहता है
है वो भी मेहनत जो
कौड़ियों में बिकती है
तेरे पास एक
आस का दीपक है
जो रोज जलता बुझता है
तेरी बदकिस्मती भी देखो
जीवन मरण के इस चक्र में
जीवन भर तू दो वक़्त जून को
फिरता है।
मिलता है आपार धन भी जब
 तुझे ,
 तब तू मृत्यु से मिलता है
लाचार कमजोर तू
"मजदूर" नाम से बिकता है।
प्रियंका खरे"श्री"
10-4-20
 

1 comment:

नई शिक्षा नीति

1986 के बाद देश की शिक्षा व्यवस्था में या उसकी नीतियों में कोई बदलाव नहीं आया । परन्तु अब नई शिक्षा नीति 2020 का आना एक नई सम्भावनायों को तो...