Wednesday, July 1, 2020

वो चार लोग क्या कहेंगे


"क्या कहेंगे लोग वो चार"
जिंदगी इसी डर में गुजर गई,
न तब कुछ थी,
न अब कुछ रह गयी।
रह गयी तो ,बस यही बात,
कि क्या कहेंगे लोग वो चार।
काश! सुन लेती,
थोड़ा सा अपने मन का,
न करती डर ,
उन चार लोगो का,
तो आज मेरी भी ,
एक कहानी होती,
जिसपे दुनियां ये ,
सारी दीवानी होती।
पर वक़्त,
उस पल न था साथ,
पर कहती हूँ,
आप सब से,
मन की यही बात।
जो ठाना है ,
गर तुमने कुछ करने का,
कभी मत सोचना,
उन चार लोगों का ,
फैला देना अपने पंखों को,
आकाश में उड़ते उन परिंदों सा,
चूम लेना गगन सारा,
छू लेना चाँद और सितारा,
बन कर निकला,
एक ध्रुव तारा,
लगे जो ,
आसमान में सबसे प्यारा।
करना वही कहे जो 
दिल ये बात
न सोचना उन चार लोगों का ।
                   प्रियंका "श्री"
                   23/5/18

6 comments:

  1. अति सहज तरीके से रख दी मन की बात क्या कहेंगे लोग ये सबसे बड़ा अभिशाप

    ReplyDelete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २५ मई २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर काव्य.
    जब आपका काम जो बेहतरीन और दूसरों से अलग होता है तब लोगों के मन में जलन होती है और वो जलन के मारे इन चार लोगो की कहावत कह देते हैं.

    इस काव्य में एक मोराल छुपा है.


    हाथ पकडती है और कहती है ये बाब ना रख (गजल 4)


    .

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर सहज लाजवाब मन की बात...
    वाह!!!!

    ReplyDelete

नई शिक्षा नीति

1986 के बाद देश की शिक्षा व्यवस्था में या उसकी नीतियों में कोई बदलाव नहीं आया । परन्तु अब नई शिक्षा नीति 2020 का आना एक नई सम्भावनायों को तो...